Entries by dobaat

Water, Earth and Forest

जल, जंगल और जमीन है जब तक | इस प्रथ्वी पर हमारा अस्तित्व है तब तक|| जल, जंगल और जमीन जो हमारे अस्तित्व को बचाए हुए है, लेकिन अब ऐसा लगता है कुछ ही दिनों में हम ये सब खो देंगे, कहते है | हम भोजन के बिना एक माह से अधिक जीवित रह सकते […]

Our Environment and Nature

माटी कहे कुम्हार से, तू क्या रोंदे मोहे, एक दिन ऐसा आएगा, मैं रोंदूगी तोहे || आज का समय जो हमें सिर्फ अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए अग्रसर कर रहा है, सुनने और पढने में बहुत ही अच्छा लगता है ,क्यूंकि हम प्रगति के पथ पर आगे बढ़ते जा रहे है, लेकिन क्या […]

For future

🙏🏻हम अपना भविष्य तो नहीं देख सकते लेकिन बना तो सकते है । अच्छा स्वास्थ्य और अच्छा व्यवहार ।। अच्छी दींनचर्या और सदाचार ।। Yoga special #yogatwitter #dobaat

शरीर में स्थित चक्र

!!शरीर में स्थित चक्रों को जागृत करिए!! 1. मूलाधार चक्र : यह शरीर का पहला चक्र है। गुदा और लिंग के बीच चार पंखुरियों वाला यह “आधार चक्र” है। 99.9% लोगों की चेतना इसी चक्र पर अटकी रहती है और वे इसी चक्र में रहकर मर जाते हैं। जिनके जीवन में भोग, संभोग और निद्रा […]